December 2, 2022

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

एक कलेक्टर की कलम ने लिखी प्रशासनिक गलियारों की प्रेम कहानी

भोपाल। प्रदेश में पहली बार किसी आईएएस अफसर ने आईएएस अफसर की ही प्रेम कहानी पर को
ई किताब लिखी है। जो पढ़ने के बाद प्रशासनिक अधिकारियों के बीच प्रेम और कार्य करने की सामंजस्य को उकेर दिया है। इस लव स्टोरी में है एक तरफ नीथरा कौल। अकेली, सुंदर, तेज और कुशल आईएएस। जो सिर्फ सही काम करने में विश्वास रखती है। लेकिन, उसके जीवन में सब कुछ सही नहीं है। उसका दिल टूटा है, काम में मिसफिट है और निराश है, इसकी वजह है उनकी अधूरी प्रेम कहानी।

दूसरी तरफ है, अविनाश राठौड़ भारतीय प्रशासनिक सेवा(आईएएस) में नीथरा के बैचमेट। नीथरा उसे बहुत प्यार करती थी। महत्वाकांक्षी अविनाश की जिंदगी नीथरा से उलट है। मसूरी में करियर की शुरूआती ट्रेनिंग के दौरान दोनों नजदीक आते हैं और प्रेम पनपता है। लेकिन यह कहानी शादी में तब्दील नहीं हो पाती दोनों अपनी नौकरी में व्यस्त हो जाते हैं।
Ou
लेकिन किस्मत एक बार फिर दोनों को साथ ला खड़ा करती है लेकिन अब हालात बदले हुए हैं। नीथरा तो अब भी अकेली है लेकिन अविनाश की जिंदगी में अब उसकी पत्नी और एक बच्चा भी है। दोनों फिर अपने आप को संबंधों के भंवर में फंसा पाते हैं। क्या नीथरा को उसका प्यार मिलेगा? इसे एक किताब के रूप में लिखा है, 2008 बैच की आईएएस और जबलपुर कलेक्टर छवि भारद्वाज ने।

‘लाइक अ बर्ड ऑन द वायर’ नाम से यह उपन्यास हाल ही में प्रकाशित हुआ है। माना जा रहा है कि मप्र में पहली बार किसी आईएएस अफसर ने आईएएस अफसर की ही प्रेम कहानी पर कोई किताब लिखी है। इस किताब में नीथरा और अविनाश के अलावा कुछ अन्य आईएएस अफसर और उनकी पत्नी के भी पात्र हैं। 1988 में महाराष्ट्र बैच के आईएएस उपमन्यू चटर्जी ने ‘इंग्लिश अगस्त’ नाम से एक उपन्यास लिखा था, बाद में इस पर फिल्म भी बनी थी।

Spread the love

You may have missed