December 2, 2022

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

बालोद जिले में बीएसएनएल की सेवा बदहाल, ग्राहक परेसान

बालोद। डिलेश्वर देवांगन। बीएसएनएल कंपनी जो कि टेलीकॉम कम्यूनिकेशन के क्षेत्र में देश का सबसे बड़ा ओहदा माना जाता है लेकिन बालोद जिले में बीएसएनएल विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों की लापरवाही के चलते उपभोक्ता परेशान है। खासतौर पर जो लैण्डलाईन के ग्राहक है वहां बारिश के दिनों में हल्की बारिश के बाद लैण्डलाईन में समस्या आ जाती है, ब्राडबेण्ड सेवा पूरी तरह ठप्प हो जाती है। इस पूरे मामले में जब जिम्मेदारों के पास शिकायत दर्ज कराई जाती है तो पहले सुधार के लिए समय मांगा जाता है लेकिन कभी भी समय पर सुधार नहीं किया गया जाता और कई दिनों तक ग्राहकों को उचित सेवा उपलब्ध नहीं हो पाती।

स्टॉफ की कमी का दिया जाता है हवाला

ग्राहकों के पास कई बार स्थिति यह आती है कि बार स्टॉफ की कमी का हवाला देकर लैण्डलाईन ग्राहकों को दो से तीन दिनों तक इंतजार कराया जाता है, उसके बावजूद भी समस्या का समाधान नहीं हो पाता। गौरतलब है कि बालोद जिले में दूर संचार विभाग पिछले कई वर्षों से विवादों में रहा है। ग्राहकों द्वारा जब भी किसी परेशानी को लेकर विभागीय अधिकारियों के पास शिकायत की जाती है तो यहां के अधिकारियों की अनदेखी व विभाग में पदस्थ कर्मचारियों की मनमानी के चलते लोगों को इस सेवा का लाभ नहीं मिल पाता जिससे लोग काफी परेशान है।

समय पर बिल, सेवा में कटौती

जहां एक ओर सरकार संचार सेवा को बढ़ावा देने के लिए सैंकड़ों योजनाएं ला रही है, राज्य के शहर सहित ग्रामीण अंचलों में लाखों मोबाईल बांटे जा रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर सरकारी दूर संचार विभाग मनमानी करते हुए ग्राहकों को ठगा जा रहा है महिने का बिल तो समय पर भेज देते हैं वह भी बिना पैसे की कटौती किये, लेकिन सेवा के नाम में कटौती कर दी जाती है। बीएसएनएल की लचर सेवा से परेशान उपभोक्ता अब निजी कंपनियों की तरफ आकर्षित हो रहे हैं। इससे विभाग को राजस्व का नुकसान उठाना पड़ रहा है। बारिश के माह में हर चौंथे दिन ब्राडबैण्ड व लैण्डलाईन सेवा ठप्प हो जाती है और घंटो या फिर कभी कभी कई दिनों तक ग्राहकों को इंतजार करना पड़ता है। जिससे जरूरी काम होने के बाद भी लोगों को संचार सेवाओं की बदहाली से जूझना पड़ रहा है।

Spread the love

You may have missed