July 5, 2022

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

मुख्यमंत्री ने कहा- ‘चावल देने से नहीं बनती सरकार, नियत,नीति और नेता ठीक होना चाहिए, कांग्रेस में न नीति, न नेता’, ‘मैं कहता हूं गरीबी हटाओ, कांग्रेस कहती है रमन हटाओ’

सूरजपुर। दूसरे चरण के चुनावी मुकाबले में बीजेपी के पक्ष में प्रचार करने भटगांव विधानसभा सीट के लटोरी गांव में पहुंचे मुख्यमंत्री डाॅ.रमन सिंह ने सभा में कहा कि-चावल देने से सरकार नहीं बनती। नियत,नीति और नेता ठीक होना चाहिए, तब सरकार बनती है, लेकिन कांग्रेस के पास न तो नेता है और न ही नियती। रमन को हटाना एक सूत्रीय कार्यक्रम हैं उनका। मैं कहता हूं गरीबी हटाओ, कांग्रेस कहती है रमन हटाओ। रमन ने कहा कि कांग्रेस ने चरित्रवान मंत्री का सीडी निकाल दिया। उन्हें लगा कि मंत्री का चरित्र हनन कर दो रमन को इस्तीफा देना पड़ जाएगा, लेकिन सीडी नकली निकली। सीडी से कुछ नहीं हुआ, तो कांग्रेस का अध्यक्ष अपने ही नेता का सीडी जारी कर देता है। क्या ये लोग मां-बहनों के पास वोट मांगने जा पाएंगे। उन्होंने कहा कि राजनीति होनी चाहिए जनता की भलाई की, चरित्र की, लेकिन न तो इनके पास जनता की भलाई के लिए कोई सोच है न ही कुछ। कांग्रेस सिर्फ वोट की राजनीति करती है।

रमन ने कहा कि कांग्रेस के लोग आज घोषणा पत्र में गरीबों के चावल की चिंता कर रहे हैं। मैं उन्हें कहना चाहता हूं कि बीजेपी का नकल करके कुछ नहीं कर सकते। रमन ने 2007 से चावल, नमक, चना दिया है। 11 साल हो गए रमन को यह शुरू किए। 128 महीने हो गए चावल की योजना शुरू किए. इस योजना को इसलिए नहीं बनाया कि रमन को मुख्यमंत्री बनना है। इसलिए नहीं बनाया कि वोट मिलेगा। इसलिए बनाया कि सरगुजा-बस्तर का कोई गरीब आदिवासी भूखा न सोए। बच्चा भूखा सोता है, तो मां रात भर नहीं सो पाती। मैं वोट के लिए नहीं करता। मुझे पता था कि गरीब जनता के जीवन में बड़ा परिवर्तन आएगा। कुटकी खाकर जीते थे लोग। आज गरीब को चैन मिला है, तो इससे बड़ी बात रमन के लिए कुछ नहीं है। यह जनता का ही आशीर्वाद है कि 15 साल से मैं मुख्यमंत्री बना हुआ हूं, तो गरीब का आशीर्वाद मिला है। रमन ने कहा कि – मैं जब मुख्यमंत्री बना था, तब धान की कीमत 700 रूपए थी, लेकिन आज 2050 रूपए धान की कीमत हो गई है। उन्होंने कहा कि पांच साल में 2500 रूपए से लेकर 2600 रूपए तक धान की कीमत हो जाएगी। आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है। मोदी-रमन किसानों के साथ है।

टी एस सिंहदेव पर भी साधा निशाना, कहा- पिता चीफ सेक्रेटरी थे, लेकिन कभी विकास नहीं किया

मुख्यमंत्री डाॅ.रमन सिंह ने भाषण के दौरान सरगुजा के कद्दावर कांग्रेसी नेता औऱ नेता प्रतिपक्ष टी एस सिंहदेव पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सरगुजा ने नक्सलवाद की पीड़ा देखी है। भय-आतंक का दौर देखा है। आज जो लोग बड़े-बड़े वादे कर रहे हैं, उनके पिता कभी चीफ सेक्रेटरी रहे, लेकिन विकास कभी नहीं हुआ। विकास तब शुरू हुआ जब कमल खिला, बीजेपी की सरकार बनी। रमन ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल को सरगुजा ने, छत्तीसगढ़ ने भोगा है। कैसा भय का आतंक था. बिजली की व्यवस्था नहीं थी। भय था, पलायन था। कांग्रेस के मित्र जो आज बड़ी-बड़ी बातें कर रहे हैं, उन्होंने कभी गरीबों का विकास नहीं किया। आज हर क्षेत्र में विकास की किरण दिख रही है। यह हो पाया है सिर्फ और सिर्फ बीजेपी सरकार बनने की वजह से।

लोग कहते हैं-अापकी उम्र 66 साल हो गई है, 66 हजार की लीड से जीतोगे-रमन

रमन सिंह ने कहा कि राजनांदगांव-बस्तर में मतदान हो चुका है। राजनांदगांव में वोट डल चुके हैं। पिछली बार 33 हजार से जीता था। इस बार राजनांदगांव की बहनों-भाईयों ने कहा कि पिछली बार 35 हजार से जीते थे। आपकी उम्र 66 साल हो गई है। इस बार आप 66000 से जीतोगे। मैं आज दावे के साथ कह सकता हूं कि 18 विधानसभा में से 14 विधानसभा में बीजेपी जीत दर्ज करेगी। उन्होंने कहा कि बड़े-बड़े पेपर, टीवी चैनल बता रहे हैं। कोई कह रहा है कि 55 सीटें आ रही हैं, कोई कह रहा है कि 60 सीटें आ रही हैं, लेकिन मैं 55 और 60 नहीं मानता। मैं कहता हूं कि इस बार 65 सीट जीतना है। पूरे प्रदेश में जो वातावरण का नि्र्माण हुआ है। यह एक दो साल की मेहनत नहीं है. 15 साल लगे हैं।

रमन ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि भटगांव से बीजेपी प्रत्याशी रजनी त्रिपाठी ही चुनाव नहीं लड़ रही हैं। यहां से डाॅ.रमन सिंह भी चुनाव लड़ रहा है। आपका एक-एक वोट मुझे मुख्यमंत्री बनाने के लिए सहयोग करेगा। उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि विकास लगातार होते-होते रूक जाता है, जब बीजेपी का प्रतिनिधि क्षेत्र से चुना नहीं जाता। जब देश में प्रधानमंत्री और राज्य में मुख्यमंत्री बीजेपी का होता है और स्थानीय स्तर पर बीजेपी का विधायक नहीं होता, तो कमी रह जाती है, पिछली बार यहां से यही हुआ था।

Spread the love

You may have missed