October 22, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

रायपुर में “बायोफ्लाक एवं सेमी बायोफ्लाक तकनीक द्वारा मत्स्य पालन” विषय पर प्रशिक्षण कार्यक्रम।

डा. डी. रविंद्र महाप्रबंधक, नाबार्ड क्षेत्रीय कार्यलय, रायपुर के मुख्य आतिथ्य में ‘‘बायोफ्लाक एवं सेमी बायोफ्लाक तकनीक द्वारा मत्स्य पालन‘‘ विषय पर आयोजित पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के निदेशक विस्तार सेवाएं डा. एस.सी. मुखर्जी ने की।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए डा. एस.सी. मुखर्जी ने कहा कि इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय ने बायोफ्लाक एवं सेमी बायोफ्लाक तकनीक से मत्स्य पालन करने में देश में और देश के बाहर सफलता हासिल की है। 

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश एवं छत्तीसगढ़ राज्य के लगभग 45 प्रतिभागियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। छत्तीसगढ़ शासन की महत्वांकाक्षी योजना नरुआ, गुरूवा, घुरवा, बाड़ी के अंतर्गत इस तकनीक का समावेश किया जा सकता है क्योंकि बायोफ्लाक एवं सेमि बायोफ्लाक तकनीक के मध्यम से किसानों के बाड़ी में केवल चार मीटर के व्यास में मछली पालन किया जा सकता है।

Spread the love